IF YOU FACING ANY TYPE OF LOVE PROBLEMS, MARRIAGE PROBLEM, FAMILY DISPUTE SO JUST CONTACT US & WE WILL GIVE YOU A SATISFIED SOLUTION & HAPPY LIFE

love marriage astrologer
consult any time

online Astrology Services

If You Facing Any Problems So Just Contact Pt. Devendra Shastri.
One Call can Change Your Life..
Love Problem Solution, Love Marriage Solution, Get Love Back Solution, Husband Wife Problem Solution, Business Problem Solution, Love Dispute Problem Solution, Divorce Problem Solution, Your All Problem Solution by Astrologer DEVENDRA SHASTRI 100% Privacy & Satisfaction
+91-9558885377

15 जनवरी को है मकर सक्रांति, जाने कैसे मनाएं, क्या करे और क्या ना करे

makar sakranti

मकर संक्रांति के पर्व का क्या महत्व है?

मकर सक्रांति को दान पुण्य का पर्व माना जाता है। सक्रांति के दिन सूर्य के संक्रमण का भी त्योहार माना जाता है। एक जगह से दूसरी जगह जाना और एक दूसरे से मिलना ही सक्रांति होती है। जब सूर्य धनु राशि से होकर मकर राशि में पहुँचता है तो मकर सक्रांति का पर्व मनाया जाता है।

क्या होता है राशि परिवर्तन?

जब सूर्य राशि परिवर्तन करता है तो उसे सक्रांति कहते है। यह परिवर्तन मास में एक बार आता है। जब सूर्य धनु राशि से मकर राशि में जाता है। इसी वजह से इसका इतना अधिक महत्व होता है कि सूर्य दक्षिणायन से उत्तरायण हो जाता है।

संक्रांति पुण्य पर्व है

उत्तरायण देवताओं का अयन है एवं यह एक पुण्य पर्व है। मकर सक्रांति के पर्व से शुभ कार्यो की शुरुआत होती है। उत्तरायण में मृत्यु होने से मोक्ष की प्राप्ति की सम्भावना होती है।  पुत्र की राशि में पिता का प्रवेश पुण्यवर्द्धक होने के साथ साथ में ही पापो का विनाशक होता है।

सूर्य पूर्व दिशा से उदित होने के बाद में ६ महीने तक दक्षिण दिशा की ओर से तथा ६ महीने उत्तर दिशा की ओर से होकर पश्चिम दिशा में अस्त होता है। उत्तरायण का समय देवताओं का दिन तथा दक्षिणायन का समय देवताओ की रात्रि होती है।  ऐसे में वैदिक काल में उत्तरायण को देवयान तथा दक्षिणायन को पितृयान कहा गया है। मकर सक्रांति के बाद में माघ मॉस में उत्तरायण में सभी प्रकार के शुभ कार्य किए जाते है। 

मकर संक्रांति के दिन क्या करे?

  • मकर सक्रांति के दिन प्रातः काल उबटन आदि लगाकर तीर्थ के जल से मिश्रित जल से स्नान करे।
  • यदि तीर्थ का जल उपलब्ध ना होने पर दूध, दही से स्नान करे।
  • तीर्थ स्थान या पवित्र नदियों में स्नान करने का महत्व अधिक है।
  • स्नान के उपरांत नित्य कर्म तथा अपने आराध्य देव की आराधना करें।

मकर संक्रांति के दिन क्या ना करे?

पुण्यकाल में दांत मांजना, कठोर बोलना, फसल तथा वृक्ष काटना, गाय भैंस का दूध निकालना कदापि नहीं करना चाहिए। 

Like and Share our Facebook Page.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Love is magical changing people lives. One can see love in every relationship, one can feel love in every relationship but one of the most depressing things occurs when you get isolated with the person you have loved with all your heart and you have tried everything to get them back and you have been failed.

Contact Pt. Amit Sharma: +91-7725956501
100% Satisfaction And Guranteed Solution